Category Archives: allama iqbal

मेरी दु‌आ…

 मेरी दु‌आ है तेरी आरजु बदल जा‌‌ए तेरी दुआ से कजा तो बदल नही‌‌ सकती मगर है ईससे ये मुमकीन की तु बदल जाएतेरी खुदी मे अगर इनकलाब हो पैदाअजब नही के ये चार सो बदल जाए वही शराब वही … Continue reading

Posted in allama iqbal, desire, poem | Leave a comment